Environment NewsJal Yatra

Date: 26 th Jan 2020
Program: Gomti Gaatha /Jal Yatra (Efforts towards Water Conservation)
Venue: Rastogi Ghat,Pucca Pul, Lucknow
Initiated by : Prithvi innovations team (Anuradha ,Janardhan,Kriya & Nikita)
Supported By: Central Ground Water Board,Lucknow

Problem & Background:
लखनऊ में खदरा के निकट, पक्का पुल के नीचे स्थित रस्तोगी घाट पर कई माह से पानी की पाइप लाइन फटी होने से प्रति दिन कई हजार लीटर पेय जल ब्यर्थ में बर्बाद होकर रस्तोगी घाट पर आकर एकत्रित होता था जिससे उस जलभराव में अनेका – नेक प्लास्टिक , पॉलिथीन व अन्य घातक वस्तुवे उस जल में प्रवेश कर जल को अत्यत दूषित करती थी जिससे कि वहां रह रहे लोगों और उनके बच्चो को बीमारी लगने का खतरा मड़राया करता था / जल के जमाव होने से हर समय उसमे से बहुत बदबू आती थी जो कि वहां के लोगों के लिए हर समय एक चिंता का विषय बना हुआ था /

 

Steps towards Solutions- Understanding the local situation & Community Engagement, Reporting

कुछ दिनों बाद इस विकराल स्थिति की जानकारी पृथ्वी इनोवेशंस संस्था के कार्यकर्ताओं को लगी  जो कि गोमती नदी को स्वच्छ बनाए रखने के लिए गोमती गाथा प्रोग्राम के तहत निरंतर कार्य करते रहते हैं लोगो को जागरूक करके एवं जोड़ कर उनके सहयोग  में /
पृथ्वी इनोवेशंस की टीम ने वहा दौरा कर उस स्थिति से अवगत हुवे  , फिर इस गंभीर समस्या को तत्काल अपने संज्ञान में लेते हुए इसका निराकरण करने के लिए एक पहल की, जिसमे कि सर्व प्रथम उन्होंने भू जल बोर्ड के कार्यालय जाकर उक्त अधिकारियों से मिलकर उस जलभराव के दूषित पानी की जांच करने का निवेदन किया जिससे कि अगले दिन ही भू जल बोर्ड के अधिकारी श्री जगदम्बा जी ने रस्तोगी घाट आकर यहां की यथा स्थिति का दौरा किया और उस दूषित पानी की जांच करने के लिए तीन अलग अलग जगहों से पानी को बोतलो में भर कर सैंपल के लिए ले गए, साथ में अपना परामर्श भी इस समस्या के समाधान के लिए दिया /

The Results: Efforts Made by Prithvi’s Team under guidance from CGWB

सर्व प्रथम उस फटी पाइप लाइन की मरम्मत के लिए जल निगम विभाग के अधिकारियों को लिखित में इस समस्या से अवगत करवाया गया, और इसके साथ ही मुख्यमंत्री हेल्प लाइन 1076 पोर्टल पर इस समस्या को दर्ज कराया गया, जिसका परिणाम 2 दिनों में ही निकल कर आया जो कि उस फटी पाइप लाइन की मरम्मत जल निगम द्वारा किया गया जिससे प्रति दिन ब्यर्थ हो रहे कई हजार लीटर पानी को रोका जा सका / उसके बाद उस जल भराव में ऑर्गनिक फर्टीलाइजर डलवाकर उस दूषित जल को साफ करवाया गया जिससे कि उसमें से आने वाली बदबू समाप्त हो सकी /
वहा के स्थाई लोगो को बताया गया कि वह प्लास्टिक व पॉलीथिन को इधर उधर न फेके जिससे वह उस जल भराव में जाकर पुनः उसे दूषित करे / जागरूकता के लिए वहां पर दो बोर्ड भी लगाए गए हैं जिस पर पर्यावरण को बचाने एवं स्वच्छता को लेकर जागरूक
करने के लिए सन्देश भी लिखा गया / अब समय समय पर पृथ्वी इनोवेशंस के कार्यकर्ता जनार्दन मिश्रा द्वारा वहा जा कर निरीक्षन किया जाता है और वहां के लोगो से मिला जाता है / आगे हमारा प्रयास है कि जल्द से जल्द हम उक्त अधिकारियों संशुती प्राप्त कर वहा घाट पर वृक्षा रोपण कर घाट की शोभा बढ़ा सकने एवं पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए पहले कर सके /

Leave a Reply